• April 14, 2024

नियम व कायदे की धज्जियां उड़ा कर अतिक्रमणकारियों ने निकाली निगम अधिकारियों के प्लान की हवा

 नियम व कायदे की धज्जियां उड़ा कर अतिक्रमणकारियों ने निकाली निगम अधिकारियों के प्लान की हवा

निगम अधिकारी कितना भी स्वच्छता के लिए सख्त कानून बनाने लेकिन अतिक्रमणकारी हैं कि सुधारने का नाम ही नहीं ले रहे हैं

जहां गाजियाबाद नगर निगम के नगर आयुक्त डॉ नितिन गॉड शहर को स्वच्छ और अतिक्रमण रहित बनाने की मुहिम चला रहे हैं। वही जोनल स्तर के निगम अधिकारी उनके इस प्लान की हवा निकाल रहे हैं। मामला कवि नगर जोन केआरडीसी इलाके का है जहां नगर निगम की सर्विस रोड को घेरकर उस पर छाती तान कर होटल संचालक तथा अन्य व्यापारियों द्वारा मोटा मुनाफा कमाया जा रहा है और तो और यहां खाने के साथ-साथ मधुर संगीत का भी इंतजाम किया गया है। आपको बता दें अभी 1 माह पहले कवि नगर जोनल प्रभारी सुनील राय द्वारा अभियान चलाकर गाजियाबाद का हॉट कहे जाने वाले RDC में अतिक्रमण हटाया गया था लेकिन बावजूद इसके अधिकारियों के खौफ को ठेंगा दिखाते हुए यह होटल संचालक धड़ल्ले से नगर निगम की जमीन को कब्जा कर उस पर होटल संचालित कर मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। आरडीसी के मुख्य द्वार के पास स्थित हैप्पी पंजाब, ब्रिजस्टोन मंगल टायर, खड़क सिंह ऐसे दबंग अतिक्रमणकारी हैं जिनसे निगम अधिकारी भी बचकर निकलते हैं।

आपको बता दें कि पहले भी खबर के माध्यम से हमारे द्वारा जोनल प्रभारी सुनील राय, खाद्य निरीक्षक अशोक बघेल ,नरेश कुमार तथा सुपरवाइजर रतेंद्र को भी संज्ञान दिलाया गया था लेकिन बावजूद इसके यह समझ पाना मुश्किल है कि किस निगम अधिकारी की शह पर इन होटल संचालकों की इतने हौसले बुलंद हैं कि यह सार्वजनिक जगह को घेरकर उस पर मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। इन अतिक्रमणकारियों के रसूख का अंदाजा आप इस बात से ही लगा सकते हैं कि निगम टीम द्वारा जप्त किए गए सामान को महज कुछ घंटों में ही द्वारा इन व्यापारियों ने दोबारा प्राप्त कर रोड पर सजा दिया था। अतिक्रमण का खेल कोई नया नहीं है सब निगम अधिकारियों की मिलीभगत का नतीजा है जब एक दुकानदार अतिक्रमण करता है तो दूसरे को अपने आप अतिक्रमण करने का बल मिल जाता है। अब देखना यह होगा कि इस खबर के बाद नगर आयुक्त कितनी जल्द सख्त एक्शन लेकर घेरी हुई सार्वजनिक संपत्ति को अतिक्रमण मुक्त करा पाते हैं।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.