• June 15, 2024

पंजाब में महंगी हुई बिजली: दाम प्रति यूनिट 80 पैसे तक बढ़े, CM मान बोले- मुफ्त बिजली योजना पर असर नहीं

 पंजाब में महंगी हुई बिजली: दाम प्रति यूनिट 80 पैसे तक बढ़े, CM मान बोले- मुफ्त बिजली योजना पर असर नहीं

जालंधर उपचुनाव की प्रक्रिया पूरी होते ही पंजाब विद्युत नियामक आयोग ने सूबे के लोगों को जोर का झटका दिया है। राज्य में घरेलू बिजली के दाम में प्रति यूनिट 80 पैसे तक का इजाफा करने के प्रस्ताव को नियामक आयोग ने मंजूरी दे दी है और वित्त वर्ष 2023-24 के लिए बिजली के नए टैरिफ चार्ज तय कर दिया है।

नया टैरिफ 16 मई से लागू हो जाएगा। नए टैरिफ में घरेलू, व्यवसायी और औद्योगिक बिजली दरों में बढ़ोतरी के साथ-साथ प्रति माह फिक्स चार्ज में भी वृद्धि की गई है। इसके चलते प्रति यूनिट बिजली की नई दरें सभी वर्गों को प्रभावित करेंगी। इस बीच मुख्यमंत्री भगवंत मान ने एलान किया है कि बिजली के बढ़े दाम राज्य सरकार की 600 यूनिट मुफ्त बिजली की योजना को प्रभावित नहीं करेंगे और इस मद पर बढ़ी हुई दरों का भुगतान राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा।

 

नए टैरिफ के अनुसार दो किलोवाट क्षमता वाले घरेलू उपभोक्ता को 100 यूनिट तक प्रति यूनिट 3.49 रुपये की दर से मिलने वाली बिजली की दर बढ़ाकर 4.49 रुपये प्रति यूनिट कर दी गई है। वहीं 101-300 यूनिट तक 5.84 रुपये प्रति यूनिट की जगह अब 6.64 रुपये प्रति यूनिट देना होगा। 300 यूनिट से अधिक उपभोग पर नई दर 7.75 रुपये प्रति यूनिट होगी।

2-7 किलोवाट क्षमता वाले उपभोक्ताओं के लिए भी प्रति यूनिट बिजली दर में, 100 यूनिट तक 70 पैसे, 101-300 यूनिट तक 80 पैसे और 300 यूनिट से अधिक उपभोग पर 45 पैसे प्रति यूनिट की बढ़ोतरी की गई है लेकिन इसके साथ ही मासिक फिक्स चार्ज में इजाफा किया गया है, जो पहले 100 यूनिट तक 35 से बढ़कर 50, 101-300 यूनिट तक 60 से बढ़कर 75 और 300 से अधिक यूनिट पर 95 से 110 कर दिया गया है। वहीं, बड़े घरेलू उपभोक्ताओं के लिए बिजली दर 6.63 रुपये प्रति यूनिट से बढ़ाकर 6.96 रुपये प्रति यूनिट कर दिया गया है।

 

गैर आवासीय बिजली सप्लाई में केवल 500 यूनिट से अधिक उपभोग वाले लोगों की जेब ढीली करते हुए 20 किलोवाट से अधिक खपत वाले गैर आवासीय प्रयोग के लिए फिक्स चार्ज के साथ ऊर्जा दरों में भी 6.35 रुपये प्रति यूनिट से बढ़ाकर 6.75 रुपये प्रति यूनिट की वृद्धि की गई है। इस वर्ग में छोटे खपतकारों के लिए केवल फिक्स चार्ज में बढ़ोतरी की गई है।

 

राज्य के औद्योगिक क्षेत्र की बिजली दरों में भी परिवर्तन हुआ है। इसके तहत 20 किलोवाट तक क्षमता वाले छोटे उद्योगों के लिए बिजली दर 5.37 रुपये प्रति यूनिट से बढ़ाकर 5.67 रुपये प्रति यूनिट कर दी गई। इस वर्ग में मध्यम सप्लाई (20-100 किलोवाट) वाले उपभोक्ताओं के लिए बिजली

दर 5.80 रुपये प्रति यूनिट से बढ़ाकर 6.10 रुपये प्रति यूनिट कर दी गई है। लार्ज सप्लाई वाले सामान्य उद्योगों (100-1000 किलोवाट तक) के लिए 6.05 रुपये प्रति यूनिट की दर को बढ़ाकर 6.45 रुपये प्रति यूनिट, 1000-2500 किलोवाट तक 6.15 रुपये के बजाय 6.55 रुपये प्रति यूनिट

और 2500 किलोवाट से अधिक के खपतकारों के लिए नई बिजली दर 6.27 के बजाय 6.67 रुपये प्रति यूनिट की है। पीआईयू उद्योगों के लिए बिजली की प्रति यूनिट दरों में 40 पैसे का इजाफा किया गया है। रात के समय औद्योगिक खपतकारों को मिलने वाली बिजली दरों को 4.86 रुपये प्रति यूनिट से बढ़ाकर 5.24 रुपये प्रति यूनिट कर दिया गया है।

मुफ्त बिजली योजना पर असर नहीं: सीएम
मुख्यमंत्री भगवंत मान ने राज्य में नई बिजली दरों को लेकर स्पष्ट किया है कि सरकार द्वारा प्रति माह 300 यूनिट मुफ्त बिजली की योजना पर इसका प्रभाव नहीं पड़ेगा और बिजली दरों में बढ़ोतरी का खर्च राज्य सरकार अदा करेगी। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया कि आम लोगों पर इसका बोझ नहीं पड़ने दिया जाएगा और प्रति माह 300 यूनिट वाली योजना के एक भी मीटर पर असर नहीं पड़ेगा।

इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग होगी महंगी
राज्य में इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशनों को भी अब बिजली महंगी मिलेगी। इसके लिए मौजूदा छह रुपये प्रति यूनिट की दर को बढ़ाकर 6.28 रुपये कर दिया गया है। इनके अलावा श्री हरमंदिर साहिब और श्री दुर्ग्याना मंदिर को पहले की तरह 2000 यूनिट मुफ्त बिजली मिलती रहेगी लेकिन 2000 यूनिट से ऊपर लागू 6.11 रुपये प्रति यूनिट की दर को बढ़ाकर 6.41 रुपये प्रति यूनिट कर दिया गया है।

पंजाबियों से आप सरकार का नया धोखा: भाजपा
पंजाब भाजपा के उपाध्यक्ष और पूर्व विधायक अरविंद खन्ना ने पंजाब सरकार द्वारा बिजली दरों में बढ़ोतरी के फैसले की आलोचना की और कहा है कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली सरकार की कथनी और करनी में बहुत अंतर है। उन्होंने कहा कि मुफ्त बिजली देने का दावा करने वाली आप सरकार, गर्मी में बिजली महंगी कर अपना ही वादा भूल गई और साबित कर दिया कि यह सरकार अपने वादे पूरे करने में बड़ा कीर्तिमान स्थापित करेगी।

अरविंद खन्ना ने कहा कि सरकार ने जालंधर की जीत का तोहफा पंजाबियों को बिजली बिलों में बढ़ोतरी के रूप में दिया है। उन्होंने कहा कि पहले औद्योगिक बिजली दरों में वृद्धि की गई थी और अब घरेलू बिजली दरों में 56 पैसे प्रति यूनिट की वृद्धि की गई है। खन्ना ने कहा कि सरकार ने पंजाबियों को कदम दर कदम धोखा दिया है।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.